राज्य कृषि प्रबन्ध संस्थान

रहमानखेड़ा, लखनऊ, उत्तर प्रदेश

पोटैटो प्लांटर

इस मशीन के द्वारा जमीन के अन्दर उचित गहराई एवं उचित दूरी पर आलू बोया जाता है। आलू का बीज अपने आप आवश्यक गहराई में सीधी लाइनों में लगता जाता है। इस मशीन की यह विशेषता है कि खेत में मेड़ों की चैड़ाई,गहराई एवं लाईन से लाईन की दूरी को घटा बढ़ा सकते हैं। मशीन की सीट पर बैठा हुआ किसान आसानी से आलू के बीज नालियों में ठीक तरह से डाल सकता है जिससे कोई भी आलू नष्ट नहीं हो पता है।

यन्त्र की विशेषतायें:-

  • मेड़ों का आकार आवश्यकतानुसार घटाया-बढ़ाया भी जा सकता है।
  • मेड़ों का आकार आवश्यकतानुसार घटाया-बढ़ाया भी जा सकता है।
  • कूड की गहराई अपनी आवश्यकता के अनुसार घटायी व बढ़ायी जा सकती है।
  • इस मशीन के दो भाग हैं। इसमें एक भाग को अलग करके जब आवश्यक हो पौधों पर मिट्टी चढ़ाने का भी कार्य किया जा सकता है।
  • इस मशीन में कृषकों की सुविधा हेतु एक सीडिंग प्लेट लगायी गयी है जिससे आलू का बीज क्रम से गिरता रहता है।

मशीन की जानकारी:-

  • बुआई की क्षमता- 5 से 10 एकड़ तक दो पंक्तियों के मशीन द्वारा।
  • मेड़ों में अन्तर-50 से0मी0 (आवश्यकतानुसार घट-बढ़)
  • पौधों में अन्तर-14 से0मी0 26 से0मी0 तक
  • मशीन का प्रकार-अर्धस्वचालित
  • मेड़ों की संख्या- दो या चार
  • आलू बोआई की गहराई- सुविधानुसार जैसी जरूरत हो।