राज्य कृषि प्रबन्ध संस्थान

रहमानखेड़ा, लखनऊ, उत्तर प्रदेश

हस्त चालित स्प्रेयर

हस्त चालित स्प्रेयर का उपयोग कृषि रसायनो के सफल प्रयोग के लिये उनका उपयोग बिल्कुल सही और एक समान होना चाहिए। कतारो वाली फसलों एवं बागवानी में कीट-फफूंदनाशक एवं शाकनाशक दवाओं का प्रयोग पीठ पर लटकाने वाले स्प्रे-पम्प के द्वारा किया जाता है। एक या एक से अधिक नोजल वाले स्प्रे पम्प आवश्यकतानुसार कीटनाशक दवाईयों के प्रयोग के लिये किये जाते है ज्यादातर कीटनाशक व फफॅूदनाशक दवाओं के प्रयोग करने से कोई कुप्रभाव नही होता है लेकिन शाकनाशियों के संदर्भ में ऐसा नही है

हस्त चालित स्प्रेयर के मुख्य भाग:-

  • टैंक
  • नोजल
  • हैडिल
  • छलनी

सावधानियां एवं रखरखाव:-

  • स्प्रे यन्त्र को प्रयोग के बाद या नया रसायन डालने से पहले अच्छी तरह साफ करें।
  • ताजा पानी डाल कर इसे नोजल या बूम के माध्यम से स्प्रे करते बाहर निकले।
  • जब हवा ना चलती हो तभी स्प्रे करना उचित है।
  • इन रसायनों को आंखों व मुंह की पहुच से दुर रखें।
  • जब इन रसायनों के साथ काम करें तो खाना-पीना व तम्बाकू सेवन ना करें।
  • जब इन रसायनों के साथ काम करें तो खाना-पीना व तम्बाकू सेवन ना करें।